पुराने समय में जब पैसा यानि मनी का चलन नहीं था। तो लोग वस्तु विनिमय प्रणाली के आधार पर अपना जीवन यापन करते थे। वस्तु विनिमय प्रणाली यानि Good Exchange Process वो होता है,जिसके अंतर्गत एक वस्तु बदले दूसरे वस्तु को प्राप्त किया जाता है। यह प्रोसेस कमोडिटी मनी सिस्टम पर आधारित होता है। जिसमें दिया जाने वाला वस्तु भले ही पैसा ना हो, लेकिन उसका अपना एक मूल्य होता है।

        आज के इस “कुछ सीखें” के लेख में हम आपके लिए कमोडिटी मनी क्या होता है?, यह फिएट मनी से कैसे अलग है? इसके अलावा कमोडिटी मनी से जुड़ी और भी जरूरी जानकारी लेकर आए हैं। यदि आप कमोडिटी मनी के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं तो इस लेख के साथ बने रहिए।

       हालांकि कमोडिटी मनी, मनी का ही एक प्रकार है, इसलिए कमोडिटी मनी पर चर्चा करने से पहले हम मनी क्या है? मनी के कितने प्रकार होते हैं?  इस पर थोड़ा डिस्कस कर लेते हैं।

 मनी क्या है? ( What is money?)

    मनी यानि मुद्रा या पैसा वो होता है जिससे  सामान्य जीवन यापन हेतु आवश्यकता को पूरा किया जा सके। साधारण भाषा में कहें तो किसी भी वस्तु या सेवा को खरीदने के लिए उपयोग किया जाने वाला साधन ही  मनी कहलाता है।

   भारत में सदियों से मनी अलग-अलग रूपों में लोगों के दिनचर्या में शामिल रहा है। वर्तमान मे भारत मे 4 प्रकार के मनी का उपयोग किया जा रहा है।

1. कमोडिटी मनी ( Commodity Money)

2. फिएट मनी (Fiat Money)

3. फिडुशरी मनी (Fiduciary Money )

4. वाणिज्यक बैंक मनी ( Commercial Bank Money )

 1. कमोडिटी मनी ( Commodity Money) =

      यह मनी का सबसे पुराना प्रकार है।  कमोडिटी मनी वस्तु विनिमय (गुड एक्सचेंज ) प्रणाली होता है, जिसके अंतर्गत एक वस्तु या सेवा के बदले दूसरे वस्तु या सेवा का आदान प्रदान किया जाता है। इसमें कमोडिटी यानि वस्तु ही पैसा बन जाता है, जैसे सोना चांदी आदि।

2. फिएट मनी (Fiat Money) =

      फिएट मनी सरकार द्वारा जारी करेंसी होता है। जिसे देश के सभी लोगों द्वारा स्वीकार किया जाता है। वस्तु या सेवा को उपयोग करने के लिए सरकार द्वारा निर्धारित मूल्य पर इसे सपोर्ट किया जाता है। फिएट मनी में देश के सिक्के और कागजी मुद्रा शामिल है।

3. फिडुशरी मनी (Fiduciary Money ) =

    फिडुशरी मनी एक भरोसे वस्तु का इस्तेमाल किया जाता है। इसे जारीकर्ता द्वारा मांग के अनुसार वापस दिए जाने का भरोसा दिया जाता है। फिडुशरी मनी के एग्जांपल मे चेक या बैंक ड्राफ्ट लिया सकता है।

4. वाणिज्यक बैंक मनी ( Commercial Bank Money ) =

     वाणिज्यिक बैंकों द्वारा प्रदान किये जाने वाला ऋण या लोन कमर्शियल बैंक मनी कहलाता है। यह लोन एक निश्चित समय के लिए वस्तु या सेवा को खरीदने के लिए दिया जाता है।

      मनी के स्वरूप को समझने के बाद कमोडिटी मनी क्या है? इस बात को समझने में आसानी होगी । तो आइए अब हम कमोडिटी मनी किसे कहते हैं? कमोडिटी मनी का इतिहास क्या है? कमोडिटी मनी फिएट मनी से कैसे अलग है? कमोडिटी मनी के फायदे और नुकसान और उपयोग क्या है? कमोडिटी मनी वर्तमान मार्केट से कैसे जुड़ा है? से जुड़ी जानकारी पर विस्तार से चर्चा करते हैं : –

 कमोडिटी मनी किसे कहते हैं? ( What is commodity money in hindi )

         कमोडिटी मनी वो मनी होता है, जिसका मूल्य उस वस्तु से निर्धारित होता है, जिससे वह बनता है। इसे वस्तु का आंतरिक मूल्य भी कहते हैं। कभी-कभी कमोडिटी  मनी का उपयोग फिएट मनी को प्राप्त करने या अधिक मूल्यवान समान को खरीदने के लिए किया जाता है।

     कमोडिटी मनी की परिभाषा  (Definition of Commodity Money)

    जो वस्तु पैसे के मूल्य के रूप में काम करता है, वो कमोडिटी मनी कहलाता है। यह वस्तु का वो मूल्य होता है,जिससे वस्तु बनता है।

     दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि कमोडिटी मनी वह वस्तुएं होती है, जिसका अपने आप में एक मूल्य होता है।

     कमोडिटी मनी के उदाहरण ( Example of Commodity Money )

     शराब, कोको बींस, तांबा, सोना, चांदी,नमक, मिर्च, बड़े पत्थर, तंबाकू,कौड़ी,सिगरेट, रेशम आदि कमोडिटी मनी का ऐतिहासिक उदाहरण है।

      कमोडिटी मनी कभी-कभी ही इस्तेमाल किया जाता है। लोग आर्थिक प्रॉब्लम की स्थिति में ही कमोडिटी मनी का उपयोग करना चाहते है। कमोडिटी मनी को किसी सरकारी विनिमय की मान्यता की आवश्यकता नहीं होती है। सोना जैसे कमोडिटी मनी को ज्वेलर्स के अलावा मूल्यवान वस्तु के रूप में हर कोई रखना चाहता है, क्योंकि वो कभी भी इस कमोडिटी मनी को एक्सचेंज करके फिएट मनी प्राप्त कर सकता है।

 कमोडिटी मनी का इतिहास क्या है? ( History of Commodity Money)

    कमोडिटी मनी को जानने के अलावा यह भी जानना जरूरी है कि कमोडिटी मनी का कांसेप्ट कैसे वजूद में आया। कमोडिटी मनी हजारों वर्षों से उपयोग में लाई जा रही है। इसका उपयोग प्राचीन और मध्यकालीन के उस काल से किया जाता है, जब किसी सिक्के या कागजी मुद्रा का प्रचलन भी नहीं था। हालांकि इसकी उत्पत्ति का सटीक निर्धारण करना पॉसिबल नहीं है।

    500 से 700 ईपु के बीच सोना लोगों के जीवन यापन हेतु वस्तु विनिमय प्रणाली (Good Exchange  Process)  के तहत एक सामान्य रूप में बन गया था। वस्तु विनिमय प्रणाली के अंदर सामानों के मूल्य बनाने वाले विक्रेता और सामानों के खरीददार के बीच आदान-प्रदान होता है और केवल उन्हीं सामानों का आदान प्रदान संभव होता है, जो वस्तु अपने आंतरिक मूल्य को बनाए रखने में सक्षम हो। जैसे लोहा जंग लगने के बाद अपना आंतरिक मूल्य को खो देता है, इसलिए इस कमोडिटी मनी के तौर पर इसका उपयोग नही होता है।

कमोडिटी मनी और फिएट मनी से कैसे अलग है? (Difference between Commodity Money and Fiat Money )

 1.   फिएट मनी एक खरीद वाउचर की तरह होता है, जिसका उपयोग वस्तुओं और सेवाओं के आदान-प्रदान में किया जाता है। यह सरकार द्वारा समर्थित मूल्य होता है, जो कागज और सिक्के से बना होता है। कमोडिटी मनी एक वस्तु  है जो जिसका अपना एक आंतरिक मूल्य होता है।

2. फिएट मनी सरकार  के अधीन एक कानूनी मौद्रिक  प्रणाली है। जबकि चांदी और सोने जैसे कमोडिटी मूल्य  सरकारी दायित्व के अधीन नहीं है।

3. फिएट मनी को कभी भी कहीं भी यूज किया जा सकता है।  जबकि कमोडिटी मनी को अर्थव्यवस्था की जरूरत के हिसाब से उपयोग किया जाता है।

4. फिएट मनी का एकाधिकार सरकार के नियंत्रण में होता है। जबकि कमोडिटी मनी का मूल्य वस्तु के उत्पादन से निर्धारित होता है।

5. फिएट मनी कमोडिटी मनी के ऊपर निर्भर करता है।  जबकि कमोडिटी मनी अपने आंतरिक मूल्य पर निर्भर करता है।

6. फिएट मनी अधिक लचीला होता है, क्योंकि इसका उपयोग किसी भी राशि के भुगतान करने के लिए किया जा सकता है। जबकि कमोडिटी मनी में लचीलापन कम होता है, क्योंकि  सोने चांदी जैसे कीमती धातु  काफी मूल्यवान होते हैं जो  छोटी मात्रा में आसानी से उपयोग नहीं कर सकते हैं।

कमोडिटी मनी के फायदे और नुकसान क्या है? (Advantage and Disadvantage of Community Money )

 कमोडिटी मनी के फायदे (Advantage of Commodity Money )

  1. कमोडिटी मनी एक साथ कई उद्देश्य की पूर्ति करता है।

2. कमोडिटी मनी में प्रयुक्त वस्तु का मूल्य स्थिर रहता है और इसकी आंतरिक आपूर्ति सीमा होती है।

3. उच्च में मुद्रास्फीति ( inflation ) के दौरान कमोडिटी मनी का उपयोग एक बफर की तरह  किया जाता है।

कमोडिटी मनी के नुकसान (Disadvantage of Commodity Money )

1. कमोडिटी मनी को अपनी जरूरत के हिसाब से छोटे-छोटे हिस्सों में बांटना बहुत मुश्किल होता है।

2. वस्तु का मूल्य स्थिर होने के कारण रिस्क बना रहता है, क्योंकि वस्तु कभी भी अपना मूल्य खो सकते हैं।

3. कमोडिटी  वस्तु का मूल्यांकन करना बहुत मुश्किल होता है। यह डिसाइड करना बहुत कठिन होता है कि एक्सचेंज में ली गई वस्तु का वास्तविक मूल्य क्या है। 

 कमोडिटी मनी का उपयोग कैसे करें? ( How to use Commodity Money )

    कमोडिटी मनी समान का एक स्वरूप है जो डेली लाइफ में उपयोग होते हैं जैसे भोजन, धातु। भारत में कमोडिटी मनी का व्यापार काफी लंबे समय से है, लेकिन विदेशी आक्रमण, सत्तारूढ़, प्राकृतिक आपदा और सरकारी नीतियों में बदलाव से कमोडिटी मनी का ट्रेंड कम हो गया है।

     हालांकि शेयर बाजार में मार्केट में अब भी कमोडिटी मनी ट्रेंड का महत्व बरकरार है :

    भारत में मान्यता प्राप्त  कमोडिटी मनी एक्सचेंज कारोबार है :

1. मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज(MCX)

2. राष्ट्रीय कमोडिटी एंड डेरिवेटिव एक्सचेंज  ( NCDEX)

3. राष्ट्रीय मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज(NMCX)

4. भारतीय कमोडिटी एक्सचेंज (ICEX)

5. एसीई डेरिवेटिव एक्सचेंज (ACE)

 इन कमोडिटी मनी एक्सचेंज शेयर बाजारों में कमोडिटी मनी को चार भागों में बांटा गया है :

 धातु में चांदी, सोना,तांबा, प्लैटिनम।

 कृषि में चावल, गेहूं, मक्का आदि ।

 पशुधन में अंडा, मांस आदि।

 ऊर्जा में कच्चा तेल, प्राकृतिक तेल, केरोसिन आदि

       अगर आप अपने कमोडिटी मनी का उपयोग करना चाहते हैं तो फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के माध्यम से आप कमोडिटी मनी एक्सचेंज में निवेश कर सकते हैं। फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के अंतर्गत व्यापारी बाजार के उतार-चढ़ाव की संभावना की स्थिति को कॉन्ट्रैक्ट में वैल्यू अनस्टेबिलिटी के द्वारा अपने लाभ को सेफ रखते हैं।

       फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट के द्वारा पूर्व निर्धारित मूल्य पर ही भविष्य के फिक्स डेट पर कोई कमोडिटी मनी को खरीदने या बेचने का प्रक्रिया किया जाता है। कमोडिटी मनी बाजार में कमोडिटी मनी का उपयोग करके आप अच्छी रकम कमा सकते है।

कमोडिटी मनी वर्तमान मार्केट से कैसे जुड़ा है?

     कमोडिटी मनी का सीधा संबंध शेयर बाजार मनी से होता है। कमोडिटी मनी वर्तमान मार्केट से मुद्रास्फीति के माध्यम से जुड़ा है। मुद्रास्फीति जितनी ज्यादा बढ़ेगी,  कमोडिटी मनी भी उतनी ही अधिक बढ़ती जाएगी।

         तो दोस्तों, आज के “कुछ सीखे” के इस लेख में हमने आपको कमोडिटी मनी क्या होता है? और इससे जुड़ी सभी बेसिक जानकारी एक लेख में आपके साथ शेयर किया है। अगर आपको लेख से संबंधित अपने विचार देने हो, तो कमेंट बॉक्स में अपनी राय जरूर लिखें। 

फैमिली बिजनेस क्या है ?

ऊंचाई बढ़ाने के लिए कौन सा योगासन किया जाता है?

कृत्रिम खाद और प्राकृतिक खाद में क्या अंतर है |

ऑनलाइन पैसे कैसे कमाये ?


2 Comments

पोर्टेबल कंप्यूटर क्या होता है - कुछ सीखे · 09/07/2022 at 4:40 pm

[…] कमोडिटी मनी क्या होता है? […]

डिप्रेशन क्या है, इसका इलाज कैसे करें? - कुछ सीखे · 11/07/2022 at 6:24 pm

[…] कमोडिटी मनी क्या होता है? […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.