राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत देश के सभी राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों तक सभी स्वास्थ्य सुविधा 24*7 दिन उपलब्ध कराया जाता है। इसके लिए प्रत्येक राज्य के जिला स्तर से रूरल हेल्थ सुपरवाइजर ( ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक) की नियुक्ति की जाती है। आज के “कुछ सीखे” लेख में हम आपको  ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक / रूरल हेल्थ सुपरवाइजर क्या है? से संबंधित सारी जानकारी विस्तार से दे रहे हैं :

रूरल हेल्थ सुपरवाइजर क्या है |

       प्रत्येक राज्य में जिला स्तर से ग्रामीण स्वास्थ्य संगठन द्वारा विभिन्न स्वास्थ्य संबंधी कार्यक्रमों का लाभ ग्रामीण क्षेत्र के लोगों तक पहुंचाया जाता है। ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को टीकाकरण, संस्थागत प्रसव, प्रसव पूर्व जांच, मलेरिया स्लाइड, खून पेशाब की जांच व अन्य स्वास्थ्य लाभ और सेवा  को प्रदान करने के लिए बहुउद्देशीय  कार्यकर्ताओं, स्वास्थ्य सहायक, ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजको की नियुक्ति की जाती है।  

         इन बहुउद्देशीय  कार्यकर्ताओं, स्वास्थ्य सहायक और ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजको के कार्य की देखरेख करने हेतु रूरल हेल्थ सुपरवाइजर / ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक की नियुक्ति की जाती है। रूरल हेल्थ सुपरवाइजर का मुख्य जिम्मेदारी अपने पद के अंतर्गत आने वाले सभी कर्मचारी के कार्यों के निगरानी और मूल्यांकन करना होता है।

रूरल हेल्थ सुपरवाइजर का ड्यूटी क्या है ?

  महिला और पुरुष रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की संयुक्त रूप से ड्यूटी

  • बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ अन्य कर्मचारियों के दैनिक कार्य में सहायता करना।
  • ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को स्वास्थ्य संबंधी कोई असुविधा नहीं हो, इस बात कर का पूरा ध्यान रखना।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को जन जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं से जुड़ने के लिए प्रेरित करना।
  •  अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को साथ लेकर एक टीम की तरह काम करना।
  • समय-समय पर बहुउद्देशीय कार्यकर्ताओं के साथ गांव का निरीक्षण करना और हेल्थ से संबंधी नए कार्यक्रम को आयोजित करवाना।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में प्रदान की जाने वाले लाभ और सेवा से संबंधित सभी जानकारी की प्रगति रिपोर्ट तैयार कर अपने वरिष्ठ अधिकारी को प्रेषित करना।
  • जिला परिषद, जिला चिकित्सालय और प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के बैठकों में शामिल होना।
  • ग्रामीण क्षेत्र में सामुदायिक स्वास्थ्य शिविर आयोजित करने, स्वास्थ्य देखभाल उपकरणों को उपलब्ध कराने और सभी जरूरी सेवा संबंधी अपने अधीनस्थ कर्मचारियों को आदेश देना।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य लाभ और सेवा प्रदान करने हेतु सभी जरूरी आवश्यकताओं की आपूर्ति करने के लिए अपने वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट करना।
  •  ग्रामीण क्षेत्रों के  स्वास्थ्य देखभाल संबंधित सभी रिकॉर्ड को कंप्यूटर में तैयार करना।

 महिला रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की विशेष ड्यूटी :

  • महिला बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता (ANM) को ग्रामीण क्षेत्र के घर के दौरे के लिए निर्देशित करना।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में परिवार नियोजन किट/उपकरण का वितरण कर परिवार नियोजन योजना के क्रियान्वयन में मदद करना।
  • ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं को प्रसव और मासिक धर्म संबंधित सारी जानकारी उपलब्ध करवाना।
  • परिवार नियोजन कार्यक्रम में ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं  की भागीदारी सुनिश्चित करवाना।
  • ग्रामीण क्षेत्र के दाईयों को स्वास्थ्य प्रशिक्षण कार्यक्रम के तहत प्रशिक्षित करवाना।
  • लिंग परीक्षण और जबरन गर्भपात की स्थिति को रोकवाने के साथ संबंधित ग्रामीणों को जागरूक करना।
  • आपातकालीन सेवा जैसे प्रसव पीड़ा पर तुरंत मदद की व्यवस्था करवाना।

 पुरुष रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की विशेष ड्यूटी :

  • पुरुष बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ जाकर घर-घर का इंस्पेक्शन करना।
  • पुरुषों को परिवार नियोजन कार्यक्रमों के प्रति प्रेरित करना।
  • ग्रामीण क्षेत्र के सभी बच्चों का टीकाकरण हेतु समुचित व्यवस्था करवाना।
  • ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को साफ सफाई के लिए प्रेरित करना।
  •  किसी भी बीमारी से पीड़ित लोगों को जरूरत के अनुसार ब्लड टेस्ट करवा कर सही उपचार व्यवस्था करवाना।
  •  समय-समय पर आने वाली संक्रामक रोग से जुड़ी जानकारी लोगों तक पहुंचाना।

       .अगर देखा जाए तो ग्रामीण क्षेत्र के अंतर्गत कार्य करने वाले सभी कार्यकर्ता और रूरल हेल्थ सुपरवाइजर  एक साथ मिलकर ही कार्य करते हैं। 

रूरल हेल्थ सुपरवाइज़र की रेक्यूरेमेंट डिटेल्स

      देश के सभी राज्यों द्वारा नेशनल हेल्थ मिशन के तहत रूरल हेल्थ सुपरवाइज़र की रेक्यूरेमेंट की जाती है। समय-समय पर राज्य के संबंधित विभाग या व्यापम द्वारा रूरल हेल्थ सुपरवाइजर के जॉब्स के लिए अपने विभागीय पोर्टल पर अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन मंगाए जाते हैं। कई राज्यों द्वारा रूरल हेल्थ सुपरवाइजर नियुक्ति संविदा के आधार पर भी की जाती है। 

     राज्य के स्वास्थ्य विभाग के अंतर्गत रूरल हेल्थ सुपरवाइजर यानि ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक के नियुक्ति के लिए आवेदन प्रक्रिया सम्बंधित संपूर्ण विवरण निम्नानुसार है :

  •  रिक्त पद  का नाम – रूरल हेल्थ सुपरवाइजर / ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक।
  •  भर्ती प्रक्रिया – ऑनलाइन आवेदन के पश्चात  लिखित परीक्षा और आवश्यकता अनुसार साक्षात्कार के माध्यम से चयन।
  • आयु सीमा – सभी राज्यों द्वारा विभाग के नियमानुसार आयु सीमा निर्धारित की जाती है। महिलाओं को पुरुषों की अपेक्षा आयु सीमा में छूट दी जाती है। आरक्षित वर्ग  को नियमानुसार आयु सीमा में छूट प्राप्त होती है।
  • नौकरी का प्रकार – इस पद को किसी राज्य द्वारा सरकारी नौकरी का दर्जा दिया गया है , तो किसी राज्य द्वारा कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर और कहीं संविदा पर नियुक्ति की जाती है।
  • आवेदन फीस – पर्यवेक्षक की नियुक्ति सरकारी विभाग द्वारा की जाती है, तो एक निश्चित राशि फीस के रूप में ली जाती है। संविदा या कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर भर्ती के जाने की स्थिति में कोई फीस नहीं लिया जाता है।

रूरल हेल्थ सुपरवाइज़र क्वालिफिकेशन 

1. आवेदक को उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की परीक्षा जीव विज्ञान के विषय के साथ उत्तीर्ण होना है।

2. बहुउद्देशीय  कार्यकर्ता प्रशिक्षण प्राप्त करने वालों को प्राथमिकता दी जाती है।

3. राज्य द्वारा निर्धारित आयु सीमा नियमों का पालन करता हो।

4. आयु, प्रत्येक राज्य द्वारा निर्धारित नियमानुसार आयु सीमा के अंतर्गत होना चाहिए।

5. आवेदक का राष्ट्रीयता भारतीय हो और आवेदक संबंधित राज्य का मूल निवासी हो।

     फीमेल रूरल हेल्थ सुपरवाइज़र क्वालिफिकेशन भी उपरोक्तानुसार ही होती है, कभी-कभी किसी किसी राज्य द्वारा तलाकशुदा, विधवा या आर्थिक रूप से कमजोर महिलाओं को विशेष छूट की पात्रता दी जाती है। 

रूरल हेल्थ सुपरवाइज़र की सलैरी 

      रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की सैलरी या बात करें लेडी रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की सैलरी की, तो ये हर राज्य द्वारा अपने नियमानुसार अलग-अलग निर्धारित की गई है। यदि रूरल हेल्थ सुपरवाइजर यानि ग्रामीण स्वास्थ्य पर्यवेक्षक की नियुक्ति सरकारी विभाग के अंतर्गत की जाती है तो पर्यवेक्षक कर्मचारी को चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी का दर्जा दिया गया है। जिनका वेतनमान ₹9000 से ₹34000 के बीच होता है और ग्रेड पे ₹3600 से ₹4800  तक होता है। जब रूरल हेल्थ सुपरवाइजर की नियुक्ति संविदा या कॉन्ट्रैक्ट के आधार पर किया जाता है तब एक एवरेज सैलेरी 17000 से लेकर 25000 तक होती है। 

      तो दोस्तों, आज के इस ” कुछ सीखें ” के लेख में हमने आपके साथ ” रूरल हेल्थ सुपरवाइजर क्या है? ” से जुड़ी सारी महत्वपूर्ण जरूरी जानकारी को विस्तार से बताई है। आशा करते हैं आपको हमारा यह लेख पसंद आया होगा, अगर अब भी आपके मन में रूरल हेल्थ सुपरवाइजर  को लेकर कोई सवाल है, तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

प्रोडक्ट मैनेजर का काम क्या होता है?

एनएरोबिक व्यायाम क्या है ?

किसान क्रेडिट कार्ड का लोन पर कितना ब्याज लगेगा


1 Comment

नपुंसकता के लिए 100% इलाज - कुछ सीखे · 26/07/2022 at 2:27 pm

[…] रूरल हेल्थ सुपरवाइजर क्या है? […]

Leave a Reply

Your email address will not be published.