लोगो के सभी तरह के खेलों में बढ़ती दिलचस्पी से स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में रोजगार के अवसर काफी बढ़ गए है। स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को आज बेहतर करियर विकल्प के रूप में चुना जा सकता है।

बदलते समय के अनुसार पिछले कुछ दिनों से युवा अपने लिये नए क्षेत्र में कैरियर के अवसर तलाश रहे है। आजकल पढ़ाई के अलावा अन्य गतिविधियों के साथ साथ खेलकूद का महत्व भी बढ़ रहा है। जो युवा खेल में रुचि रखते है, वो खेलने के अलावा स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में भी अपना कैरियर बना सकते है। पहले सिर्फ क्रिकेट को ही अच्छे खेल के रूप में माना जाता था, लेकिन वर्तमान समय मे लोगो की लोकप्रियता सभी तरह के खेलों की तरफ बढ़ने लगी है। जिसके कारण कई युवा स्पोर्ट्स में अपना कैरियर बनाने की सोच रहे है। उनके लिये स्पोर्ट्स मैनेजमेंट एक अच्छा स्कोप है। एक सर्वे रिपोर्ट के अनुसार अगले कुछ सालों में स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में बड़ी संख्या में नियुक्ति की जरूरत होगी । अगर आप भी स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में अपना करियर बनाने की सोच रहे है और आप स्पोर्ट्स मैनेजमेंट से जुड़ी जानकारी, कोर्स , संस्थान, सैलरी , स्कोप आदि की जानकारी ढूंढ रहे है, तो आप बिल्कुल सही जगह पर आये है। इस लेख में हम आपको स्पोर्ट्स मैनेजमेंट से जुड़ी सभी जानकारियो के बारे में विस्तार से बताएंगे । 

आइये जानते है , स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के बारे में –

स्पोर्ट्स मैनेजमेंट क्या है ? 

खेल के मार्केटिंग और बिज़नेस का मिश्रित रूप स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को  कहा जा सकता है। स्पोर्ट्स मैनेजमेंट एक ऐसा क्षेत्र  है, जहां खेल के दरमियान उनके बेहतर आयोजन से अधिक से अधिक मुनाफा किया जा सके। इसमें एक खेल के आयोजन के दौरान हर छोटी बड़ी चीज़ों को ध्यान रखना , जिसे खेलो की ओर ज्यादा से ज्यादा लोगो की दिलचस्पी बनी रहे, यह काम स्पोर्ट्स मैनेजमेंट का होता है। स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में जुड़े प्रोफेशन में  ब्रांड-इंडोर्समेंट, स्पोर्ट्स गुड्स प्रमोशन, फैशन गैजेट प्रमोशन, ग्राउंड अरेंजमेंट, सिलेब्रिटी मैनेजमेंट, स्पोर्ट्स एजेंट और स्पोर्ट्स टूरिज्म जैसी कई विशेष को क्षेत्र को रखा गया हैं।

क्या पढ़ना चाहिये स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के लिये

स्पोर्ट्स मैनेजमेंट का पाठ्यक्रम स्नातक डिग्री के लिये 3 वर्ष और स्नातकोत्तर डिग्री या डिप्लोमा 2 वर्ष का होता है। स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में दाखिला लेने के लिये पहली पात्रता होती है कि खेल, खेल में रुचि और खेल से जुड़े गतिविधियों से जुड़ाव होना । उसके बाद स्नातक के लिये बारहवीं के अंकसूची के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार कर प्रवेश के लिये चयन होता है। ठीक ऐसे ही स्नातकोत्तर डिग्री या डिप्लोमा के पाठ्यक्रम के लिये स्नातक स्तर पर कम से कम 40 फीसदी अंक होना अनिवार्य है। इसके अलावा कई स्पोर्ट्स सम्बन्धी 1 से 2 वर्ष के सर्टिफिकेट कोर्स भी कई संस्थान द्वारा कराए जाते है, जिससे कम समय मे कोर्स पूरा कर स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में अपने किस्मत को आजमाया जा सकता है।

स्पोर्ट्स मैनजमेंट कोर्स कहा से करे – 

हालांकि स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के पाठ्यक्रम करवाने वाले भारत मे ज्यादा संस्थान तो नही है। अपितु भारत में कुछ ऐसे राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त संस्थान है। जो स्पोर्ट्स मैनेजमेंट का पाठ्यक्रम करवाती है , उनके नाम हम आपको बता रहे है, आप उस संस्थान की वेबसाइट पर जाकर संबंधित पाठ्यक्रम की पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है। 

1.अलगप्पा यूनिवर्सिटी , कराई कुड़ी, तमिलनाडू www.alagappauniversitydde.in

2. इंदिरा ग़ांधी इंस्टिट्यूट ऑफ फिज़िकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स साइंस ,दिल्ली 

 www.igipess.com

3.श्री गुरू तेग बहादुर खालसा कॉलेज, दिल्ली यूनिवर्सिटी,उत्तरी परिसर, नई दिल्ली

http://sgtbkhalsa.du.ac.in/

4.इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल वेलफेयर एंड बिजनेस मैनेजमेंट, कोलकाता www.iiswbm.edu/

5.लक्ष्मीबाई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फिजिकल एजुकेशन, ग्वालियर

 www.in ipe.gov.in

6.जीवाजी यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ डिस्टेंस एजुकेशन, ग्वालियर

 www.jiwaji.edu/distanceeducation.asp…

आखिर क्यों है, स्पोर्ट्स मैनेजमेंट बेहतर कैरियर विकल्प –

स्पोर्ट्स मैनेजमेंट बेहतर कैरियर विकल्प

 चाहे वो क्रिकेट हो या कोई और खेल , आज के समय मे लगभग हर खेल की लोकप्रियता दर्षकों में देखने को मिलती है। टीवी से लेकर स्टेडियम तक, कॉलोनी से लेकर क्लब तक दर्शकों का जमावड़ा देखने को मिल ही जाता है। दर्शकों की इस दीवानगी को बनाये रखने के लिये खेल आयोजको द्वारा अधिक से अधिक मुनाफा करने हेतु खेल को आकर्षित बनाने से लेकर स्टेडियम के बैठक व्यवस्था तक की सारी जिम्मेदारी को मैनेज करने का काम स्पोर्ट्स मैनेजमेंट का होता है। इसके लिये स्पोर्ट्स मैनेजमेंट के अनुभवी लोगो की आवश्यकता होती है। चाहे वो एक खिलाड़ी के पहने हुए टी-शर्ट से संबंधी हो या फिर स्टेडियम मे दर्शकों के लिये अच्छी व्यवस्था करना, इन सभी  जिम्मेदारी को मैनेज करने का काम स्पोर्ट्स मैनेजमेंट की होती है।

       स्पोर्ट्स मैनेजमेंट बहुत ही विस्तृत क्षेत्र में है यानी कि इसमें अच्छे भविष्य की भरपूर सम्भावनाएं मौजूद हैं। आज के दौर के इसकी उपयोगिता बढ़ने का कारण है, खेल का मार्केटिंग फंडा । आज के समय मे खिलाड़ियों के फैंस किसी बॉलीवुड अभिनेता से कम नही है। एक चर्चित खिलाड़ी के उपयोग किये गये टी-शर्ट , जूते आदि की कॉपी को मार्केट में उतारने मात्र से ही उसे खरीदने की होड़ लग जाती है। फैन्स 100 से 200 की चीज़ों को 1000 तक भी ले लेते है। इसका सीधा मुनाफा स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को जाता है। यदि किसी इवेंट में किसी चर्चित खिलाड़ी की उपस्थिति भर हो , तो इवेंट की सारी टिकट बिकने में देर नही होगी। इसके अलावा स्टेडियम में खेलो के दरमियान भी और कई तरीकों से स्पोर्ट्स मैनेजमेंट अपना मुनाफा कमाने में पीछे नही रहते है।

स्पोर्ट्स मैनेजर का क्या काम होता है, सैलरी कितनी होती है?

स्पोर्ट्स मैनेजर का काम स्पोर्ट्स मार्केटिंग करना, फंड जोड़ना, स्पोर्ट्स प्रमोशन, जनसम्पर्क , एथिक्स मैनेजमेंट, खेल के कानून से जुड़े तथ्यो पर योजना बनाना और प्रबंधन करना, स्पोर्ट्स से संबंधी सभी समस्याओं का पता लगाकर उनको हल करना होता है। ग्राहकों के व्यवहार और खेल को देखकर खेल के प्रसारण को कैसे विकसित किया जाए, यह सब चीजें स्पोर्ट्स मैनेजर के काम के अंदर होता हैं। इसके अलावा कानून, फाइनैंस और अर्थशास्त्र के साथ स्पोर्ट्स मैनेजमेंट अच्छा विकल्प हो सकता है।

     स्पोर्ट्स मैनेजर की मासिक सैलरी 15 हज़ार से शुरू होकर 1 लाख तक होती है। जबकि वार्षिक सैलरी 7 लाख  से लेकर 10 लाख तक होती है। जैसे जैसे अनुभव बढ़ता है, सैलरी में वृद्धि होते जाती है।

स्पोर्ट्स मैनेजमेंट की अवसर और संभावना –

     खेलकूद में लोगो की बढ़ती दीवानगी को देखते हुए खेल को और रुचिकर बनाने के लिये स्पोर्ट्स मैनेजर की मांग में भी निरंतर इजाफा हो रहा है। स्पोर्ट्स मैनेजर एक ऐसा करियर है, जहा सिर्फ  आगे ही बढ़ने के सम्भवना है, इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बहुत ही कम और करियर का स्कोप भी काफी है।  स्पोर्ट्स मैनेजमेंट को आप अपने बेहतर कैरियर विकल्प के रूप में देख सकते है, क्योकि बदलते समय के साथ इस क्षेत्र में बहुत ही ज्यादा अवसर और अच्छे भविष्य की संभावना है। 

      दोस्तो, उम्मीद है,स्पोर्ट्स मैनेजमेंट में कैरियर बनाने से संबंधी जो भी सवाल आपके मन होंगे, उनके जवाब  आपको इस लेख में मिल गए होंगे। इससे जुड़े अन्य कोई सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में बता सकते है। हम उसका जवाब जरूर देंगे। 

        धन्यवाद !

इसे भी पढ़े :

खाना पैकिंग के लिए क्या सही है और क्या गलत

क्या पीरियड में गर्भधारण कर सकते है


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *