आज कल के भाग दौड़ की ज़िन्दगी में  लोगो के पास इतना भी समय नहीं होता है की वो किसी भी बात पर ध्यान दे सके | दिन भर के काम में कभी न कभी चोट लगती ही रहती है | चोट दो तरह के हो सकते है पहली जो बहार से दिख सकता है और दूसरा जो की दिखाई नहीं देता है जिसे हम अंदरूनी चोट भी बोल सकते है , बहार से दिखने वाले चोट का इलाज हम आसानी से कर सकते है पर अंदुरनी चोट का इलाज थोड़ा परेशान करने वाला होता है | अंदरूनी चोट का इलाज कैसे किया जाता है आज हम इस ब्लॉग में पढ़ेंगे | 

अंदरूनी चोट का इलाज कैसे करे 

अगर हमे कोई चोट लग जाये तो हम उस जगह को देखते है और यदि हमें चोट का कोई निशान दिखाई न दे तो हम  उस बात पर ध्यान नहीं देते है , जो की बाद में  एक बहुत ही चिंता का विषय बन जाता है | क्यू की वो चोट जो अंदर लगी है वो धीरे धीरे अंदर ही अंदर हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाती रहती है | जो चोट हमें दिखाई ही नहीं देता उसका इलाज हम कैसे करेंगे ,ये एक चिंता का विषय बन जाता है |

अगर चोट सर पर लगी हो तो तुरंत एक अच्छे से डॉक्टर के पास जाकर दिखाएं और अपने से इलाज करने के बारे में सोचे भी नहीं ये बहुत ही खतरनाक हो सकता है  | 

अंदरूनी चोट के प्रकार

  • चोट हमारे मांश में लगी हो 
  • चोट हमारे हड्डी हड्डी में लगी हो 
  • चोट के कारण कोई नश दब गयी हो 
  • चोट के कारण मांस फट गया हो 
  • चोट के कारण हड्डी टूट गया हो 

जब भी कभी हमारे शरीर के अंदर चोट लग जाये और | यदि चोट का दर्द सहने लायक न हो तो हमे तुरंत ही किसी अच्छे डॉक्टर के पास जाकर अपनी जांच करवाना चाहिए | यदि हम चोट के साथ  जबरदस्ती करेंगे  तो वो चोट और भी बढ़ सकता है जो हमरे लिए खतरनाक हो सकता है  | 

यदि  चोट का दर्द सहने लायक हो   तो हमे तुरंत ही उस  जगह को गर्म पानी से धोना चाहिए और किसी प्रकार का दर्द वाला मलहम लगाना चाहिए | जैसे की moov , iodex और भी बहुत है | फिर भी राहत न मिले तो डॉक्टर से संपर्क करे | 

हड्डी में सूजन कैसे कम करें | 

जब कभी चोट लग जाती है तो वो हिस्सा में सूजन आ जाती है , जो की बहार से साफ़ दिखाई देता है | सूजन का कारन हो सकता है हड्डी में चोट लगना और सूज जाना , यदि हड्डी में सूजन गयी हो तो हम लगातार घरेलु उपचार से ठीक कर सकते है | 

हड्डी की चोट का इलाज 

  • उस जगह को गर्म पानी में थोड़ा सा नमक मिलाकर धोना , नमक में सोडियम होता है जो की हड्डी के लिए बहुत ही फैयदेमन्द होता है 
  • धोने में बाद गर्म पट्टी से बांध कर रखना | यदि सूजन वाली जगह को गर्म रक्खा जाये तो सूजन जल्दी ही ख़तम हो जाता है | 
  • चोट वाली जगह पर थोड़ा सा हल्दी का लेप में हल्का सा खाने वाला  चुना मिलाकार  किसी कपडे से बांध दे | इस तरह से भी सूजन के पास गर्म रहेगी जो की बहुत ही जल्द सूजन से राहत देगी 
  • गर्म तेल से चोट वाली जगह को मालिश करना। 

चोट मोच का आयुर्वेदिक उपचार

जब पहले अंग्रेजी दवा मार्केट में नहीं थी तब पर भी लोगों का चोट का इलाज हो रहा था जो की काफी कारगर भी था | जो भी उपचार हमने आपको ऊपर बातये है उसे ही हम आयुर्वेदिक उपचार कहते है | ये उपचार इतने में ही सीमित नहीं है | जैसे जैसे समय बीत रहा है वैसे वैसे ही लोग आयुर्वेदिक को भूल रहे और अंग्रेजी दवा को अपना रहे है | 

चोट लगने पर कौन सा क्रीम लगाना चाहिए 

जब भी हमें चोट लगती है हम सोचते है की कितना जल्दी हमें चोट से छुटकारा मिल जाये | इसके वजह से काफी तरह के क्रीम भी मार्केट में आसानी से मिल जाते है | अलग अलग तरह के क्रीम अलग तरह से काम करते है | 

जैसे की कोई क्रीम ऐसे होते जिसे लगा कर मालिस किया जाता है | दूसरी तरह के क्रीम ऐसे होते है जो की लगा कर सिर्फ छोड़ दिया जाता है , यदि उस क्रीम को चोट पर लगा कर मालिस कर दे उस जगह पर जलन महसूस होने लगता है जो की काफी परेशान करने वाला होता | क्रीम लेने से पहले डॉक्टर से अच्छे से क्रीम के बारे में पूछ ले | 

मार्किट में बहुत तरह के क्रीम होते जो की हम यहाँ पर पूरी तरह से नहीं बता सकते है | पर कुछ क्रीम के नाम हम बता रहे है , जो की चोट लगने पर लगाना चाहिए 

  • moov 
  • iodex 
  • omnigel 

ये 3 मार्केट में बहुत ही आसानी से मिल जाते है | 

कमर में चोट लगने की दवा 

अगर कभी भी कमर में हल्की चोट लग जाए तो हम उसका भी इलाज घर पर आसानी से कर सकते है | कमर का दर्द ऐसा होता है की हमे कोई भी काम करने के रोक देता है और शरीर सिर्फ आराम करना चाहता है | अगर गर्म तेल से कमर की मालिश की जाए तो हमें तुरंत ही आराम मिलने लगता है | यदि कोई भी मालिस करने वाला न हो तो हम बाजार से क्रीम ला कर भी दर्द से रहत पा सकते है | आजकल तो तो क्रीम लगाने की भी ज़रूरत नहीं है , दवा एक बोतल में आती है जो की स्प्रे की तरह काम करती है , जिसे कोई भी अकेला  इंसान आसानी से लगा सकता है | कमर में चोट लगने की दवा की है moov का स्प्रे बोतल | 

अंदरूनी चोट की टैबलेट | 

अगर आपको चोट लगी तो जितना हो सके क्रीम का इस्तेमाल करें | टैबलेट का इस्तेमाल हमे तब करना चाहिए जब दर्द  बर्दास्त से बहार हो | क्यू की किसी भी तरह के टैबलट खाने से हमे आराम तो मिलता है पर हम शरीर के कुछ हिस्से को नुकसान भी  पहुंचता है  |  यदि कभी भी टैबलेट वाली हालत पैदा तो किसी भी दवा के दुकान पर जाकर painkiller मांगिये | ये दवा की ऐसी प्रकार है जिसे खाने से दर्द ख़तम हो जाता है | 

उम्मीद करते है  की अंदरूनी चोट का इलाज का ब्लॉग पढ़ कर आपको चोट से जुड़े सारे सवाल के जवाब मिल गए होंगे | यदि नहीं मिले है तो कमेंट कर के हमे ज़रूर बातये हम पूरी कोसिस करेंगे आपको जवाब देने की | इस ब्लॉग जायदा से जायदा लोगो में शेयर करे जिसे उन्हें किसी भी तरह के चोट में मदद मिल सके | 

पित्त की थैली मे पथरी का इलाज कैसे करे 

सिर दर्द को कैसे ख़त्म करें 

कॉल फॉरवर्ड एक ही मोबाइल में कैसे करें


1 Comment

वर्कआउट के पहले चना खाएं या बाद में | Health and Fitness Health and Fitness · 22/01/2022 at 11:55 am

[…] अंदरूनी चोट का इलाज […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *